रोहित-धोनी सब फेल, अकेले कोहली के दम पर कब तक जीतेगी टीम इंडिया

38

वेस्टइंडीज ने भारत के सामने 284 रनों का लक्ष्य रखा था, जवाब में भारतीय टीम 47.4 ओवरों में 240 रनों पर ही ढेर हो गई. कोहली ने 107 रनों की पारी खेली, बाकी कोई और बल्लेबाज विकेट पर टिक नहीं सका.

कप्तान विराट कोहली (107) की शतकीय पारी के बाद भी शनिवार को तीसरे वनडे मैच में वेस्टइंडीज ने भारत को 43 रनों से हराकर सीरीज में 1-1 की बराबर कर ली. इस पारी से कोहली लगातार तीन वनडे पारियों में शतक लगाने वाले पहले भारतीय और कुल दसवें खिलाड़ी (संगकारा-4) बन गए. उनकी शतकीय पारी के बाद भी वेस्टइंडीज की टीम भारत दौरे पर पहली बार जीत का स्वाद चखने में सफल रही.

वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए नौ विकेट पर 283 रन बनाने के बाद भारतीय पारी को 47.4 ओवरों में 240 रनों पर समेट दिया. भारत ने गुवाहाटी में खेले गए सीरीज के पहले मैच में जीत दर्ज की थी, जबकि विशाखापत्तनम में खेला गया दूसरा मैच टाई रहा था.

विराट के आउट होते ही ध्वस्त हुई पारी

पुणे के एमसीए अंतरराष्ट्रीय मैदान में खेले गये मैच में वेस्टइंडीज की जीत की राह में कोहली इकलौता रोड़ा थे. जिन्होंने 38वें ओवर में वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर की पहली गेंद पर एक रन लेकर अपना 38वां वनडे शतक पूरा किया.

उन्होंने 119 गेंद की पारी में 10 चौके और एक छक्का लगाया. जब तक वह क्रीज पर थे भारतीय टीम जीत की ओर बढ़ रही थी, लेकिन होल्डर ने कामचलाऊ स्पिनर मर्लोन सैमुअल्स (12 रन पर तीन विकेट) को गेंदबाजी करने का जुआ खेला, जो सफल रहा. सैमुअल्स 42वें ओवर में भारतीय कप्तान को बोल्ड कर टीम को जीत की पटरी पर ले आए. वह वेस्टइंडीज के सबसे सफल गेंदबाज रहे.

रायडू- ऋषभ ने उम्मीदों पर पानी फेरा

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत खराब रही. दूसरे ओवर में ही होल्डर (46 रन पर दो विकेट) ने सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (8) को बोल्ड कर दिया. इसके बाद शिखर धवन (35) और कोहली ने 81 रनों की साझेदारी कर टीम पारी को संवारा, लेकिन दोनों की जोड़ी को स्पिनर एश्ले नर्स (43 रन पर दो विकेट) ने तोड़ा. उन्होंने धवन को एलबीडब्ल्यू किया. इसके बाद अंबति रायडू (22) और ऋषभ पंत (24) अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल सके.

धोनी एक बार फिर बैटिंग में फिसड्डी

टी-20 टीम से बाहर किए गए पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से हालांकि प्रशंसकों को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन वह महज सात रन बनाकर होल्डर का दूसरा शिकार बन गए. एश्ले नर्स ने दो विकेट लेने के अलावा 40 रनों की उपयोगी पारी खेली, जिसके लिए उन्हें ‘मैन ऑफ द मैच’ के पुरस्कार से नवाजा गया.

फीकी पड़ी बुमराह की वापसी

पहले दो मैचों में आराम दिए जाने के बाद वापसी करते हुए तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह  ने 10 ओवर में 35 रन देकर चार विकेट चटकाए. बुमराह ने कीरोन पावेल (21) और चंद्रपॉल हेमराज (15) को पवेलियन भेजकर वेस्टइंडीज को अच्छी शुरुआत नहीं करने दी. इसके बाद साई होप और एश्ले नर्स (40) को भी उन्होंने आउट किया. बुमराह ने  होप को लगातार दूसरा शतक नहीं बनाने दिया.

विशाखापत्तनम वनडे में नाबाद 123 रन बनाने वाले होप ने 113 गेंद में 95 रन बनाकर वेस्टइंडीज को संकट से निकाला. आखिर में नर्स और केमार रोच (नाबाद 15) ने नौवें विकेट के लिए 56 रन जोड़कर वेस्टइंडीज को 300 के करीब पहुंचाया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here